Tuesday, 16 May 2017

What is GST Kya Hai GST in Hindi

अध्याय -1 - क्या है जी.एस.टी

सरकार अब एक जुलाई 2017 से जी.एस.टी. लागू करने वाली है इसलिए सरल हिन्दी भाषा में आपको जी.एस.टी. की प्रामाणिक जानकारी व्यापार एवं उद्योग को देने के लिए एक ई – बुक जी.एस.टी. जारी कर रहे है इसे आप पढ़कर समझने की कोशिश करें कि आने वाले समय में आपको किस प्रकार से जी.एस.टी. कानून का पालन करना है और किस तरह यह आपके उद्योग एवं व्यापार को प्रभावित करेगा

जी.एस.टी. के दौरान आपको प्रामाणिक रूप से यह देखना है कि अब आपको एक ही बिक्री/सप्लाई पर दो करों को एकत्र करना है और इस कानून का पालन यह माल एवं सेवाओं को मिलाते हुए करना है . ये दो कर निम्न प्रकार होंगे
:-
(1).राज्य का जी.एस.टी

(2) केंद्र का जी.एस.टी

इन्हें इस कानून के तति एवं इस पुस्तक में भी आगे एस.जी.एस.टी. और सी.जी.एस.टी. के रूप में जाना जाएगा
जी.एस.टी. के दौरान कर बिक्री पर नहीं बल्कि सप्लाई पर लगेगा और इससे क्या फकन पडेगा इसे भी आगे के भागों में समझेंगे

अभी आप जी.एस.टी. का प्रामाणिक स्वरूप समझने का प्रयास करें

आइये इसे एक उदाहरण के जरिये समझने की कोशिश करें जयपुर (राजस्थान) का एक व्यापारी " अ " जयपुर के ही एक दूसरे व्यापारी " ब " को कोई माल 10 लाख रुपये में बेचता है और मान लीजिए कि जी.एस.टी. की दर 18 प्रतिशत है तो " अ " इस व्यवहार में 9-9 % की दर से 90000.00 रुपये एस.जी.एस.टी. (राज्य का जी.एस.टी.) एवं 90000 रुपये सी.जी.एस.टी. (केन्द्र का जी.एस.टी.) के रूप में अपने खरीददार " ब " से वसूल करेगा आइये इस सौदे का दूसरा भाग देखें
आइये अब इस व्यवहार को और भी आगे ले जाएँ और देखें कि इसी माल को जयपुर का " ब " नामक व्यापारी अब राजस्थान के ही अन्य शहर जोधपुर के किसी अन्य व्यापरी " स " को 10.50 लाख रुपये में बेचता है तो वह 94500.00रुपये एस.जी.एस.टी. एवं 94500 रुपये सी.जी.एस.टी. के रूप में वसूल करेगा राज्य और केन्द्र सरकार को राजस्व के रूप में क्या मिलेगा
यहाँ ध्यान रखे कि " ब " पलिे से ही एस.जी.एस.टी. के रूप में अपना माल खरीदते हुए 90000.00 रूपये का णुगतान कर चुका है एवं सी.जी.एस.टी. के रूप में 90000 रुपये का णुगतान इसी प्रकार कर चुका है एवं इस प्रकार " ब " की इनपुट क्रेडिट एस.जी.एस.टी. के रूप में 90000.00 रुपये है एवं सी.जी.एस.टी. के रूप में इनपुट क्रेडिट 90000 है जिसे वह अपने द्वारा " स " से वसूल किये गए कर में घटा कर जमा करा देगा इस प्रकार " ब " एस.जी.एस.टी. के रूप में (रुपये 94500.00 - रुपये 90000.00) 4500.00 रुपये का णुगतान राज्य के खजाने में जमा कराएगा एवं इसी प्रकार से सी.जी.एस.टी. (रुपये 94500 – रुपये 94500) 4500.00 रुपये केन्द्रीय सरकार के खजाने में जमा कराएगा इस पूरे व्यवहार को देंखे तो इससे केन्द्र सरकार को 94500 रूपये का कर मिलेगा और और राज्य सरकार को 94500.00 रुपया कर को मिलेगा.

क्या राज्य के भीतर ही बिक्री होने पर भी राज्य और केन्द्र दोनों का कर देना होगा
यहाँ यह ध्यान रखें कि राज्य के भीतर माल का वितरण या बिक्री करने पर भी केन्द्र और राज्य दोनों को कर देना होगा और अब से सभी डीलसन (कम्पोजीशन डीलसन को छोड़कर) एक ही बिल में " दो कर " जैसा कि ऊपर बताया गया है एक ही बिल में लगाएगा और यह तथ्य कि एक ही बिल में अब डीलसन को दो टैक्स लगाने होंगे जो की कफलहाल आपके लिए एक आश्चयनचकित करने वाला तथ्य हो सकता है . लेकिन आप अब समझ ही लें कि यही जी.एस.टी. है जी.एस.टी. जैसा कि ऊपर बताया गया है उसी तरह से लगेगा और इसके साथ ही राज्यों में लगने वाला वेट और केन्द्र में लगने वाला के न्द्रीय उत्पाद शुकि अथानत सेंट्रल एक्साइज भी समाप्त हो जाएगा. इसके अतिरिक्त भी राज्यों एवं केन्द्र के लगने वाले कु छ अन्य कर भी समाप्प्त हो जायेंगे जिनमें के न्द्रीय बिक्री कर अथानत सेंट्रल एक्साइज , सर्ववस टैक्स इत्याकद भी शामिल है यह जी.एस.टी. का प्रामाणिक स्वरूप है और चूँकि आप इसका पलिा भाग पढ़ रहे है इसलिए यह आपको थोड़ा समझने में तकलीफ दे सकता है लेकिन आप इसे अच्छी तरह से पढ़े और समझे क्यों कि एक जुलाई 2017 (या जैसी कुछ् संभावनाएं व्यक्त की जा रही है 1 सितम्बर 2017 से आपको ही इसका पालन करना है .इसे पढने और समझने इसका पालन करने के अलावा कोई और रास्ता नहीं है .

Adhyay - 1 Kya Hai Ji S T Sarkaar Ab Ek July 2017 Se Lagu Karne Wali Isliye Saral Hindi Bhasha Me Aapko Ki Pramanik Jankari Vyapar Aivam Udyog Ko Dene Ke Liye Ee Book Jari Kar Rahe Ise Aap Padhkar Samajhne Koshish Karein Ane Wale Samay Kis Prakar Kanoon Ka Palan Karna Aur Tarah Yah Apke Prabhavit Karega Dauran Roop Dekhna Hee Bikri Supply Par Do Karon Ekatra Is Mal Sewaon Milate Hue Ye Nimn Honge Rajya 2 Kendra Inhe तति Pustak Bhi Aage Si Jana Jayega Nahi Balki Lagega Isse फर्क Padega Bhagon Samjhenge Abhi Swaroop Prayas Aaiye Udaharan Jariye Jaipur Rajasthan VyaPari " A " Doosre B Koi 10 Lakh Rupaye Bechta Maan Lijiye Dar 18 Pratishat To Vyavhar 9 YawanrajyaSthapnacharya 90000 00 Center Apne Khareeddaar Vasool सौदे Doosra Bhag Dekhein Le Jayein Isi Namak Anya Shahar Jodhpur Kisi व्यापरी Sa 50 Wah 94500 00रुपये Rajaswa Milega Yahan Dhyan Rakhe पलिे Apna Khareedte णुगतान Chuka Input Credit Jise Dwara Kiye Gaye Ghata Jama Karaa Dega 4500 KhaJane कराएगा Kendriya Pure देंखे Rupaya Bheetar Hone Dono Dena Hoga Rakhein Vitarann Ya Sabhi डीलसन Composition Chodkar Bill Jaisa Upar Bataya Gaya Lagayega Tathya Tax Lagane Jo कफलहाल आश्चयनचकित Wala Ho Sakta Lekin Samajh Lein Yahi Usi Iske Sath Rajyon Lagne वेट न्द्रीय Utpaad शुकि अथानत Central Excise Samapt Atirikt कु Chh समाप्प्त Jayenge Jinme, सर्ववस इत्याकद Shamil Choonki Iska पलिा Padh Thoda Takleef De Achhi Padhe Samjhe Kyon Jaisi कुछ् Sambhavanayein Vyakt Jaa Rahi September Padhne ALava Rasta

Monday, 15 May 2017

What Is GST Gst Rules E Book

What Is GST Gst Rules E Book
अनुक्रमणिका
क्र.सं. अध्याय विवरण पृष्ट
संख्या
1. 1 क्या है जी.एस.टी. 4
2. 2 जी.एस.टी.एवं दो राज्यों के बीच व्यापार 7
3. 3 IGST- इंटीग्रेटेड गुड्स एवं सेवा कर 9
4. 4 कर की दर 11
5. 5 जी.एस.टी – रिटर्न 15
6. 6 जी.एस.टी. – कम्पोजीशन स्कीम
20
7. 7 कर निर्धारण – दोहरा नियंत्रण
26
8. 8. ई-वे बिल (रोड परमिट) 30
9. 9. प्रामाणिक क्रेडिट (अंतिमस्टॉक) 35
10. 10. जी.एस.टी. -सामयिक सवाल 43
ANNEXURES
1. 1. आई.जी.एस.टी. – उदाहरण 51
2. 2. विभिन्न रिटर्न की अंतिम तिथि 58

What is GST Rules E Book Anukramanika Kr San Adhyay Vivarann Pusht Sankhya 1 Kya Hai Ji S T 4 2 Aivam Do Rajyon Ke Beech Vyapar 7 3 IGST - Integrated Goods Sewa Kar 9 Ki Dar 11 5 return 15 6 Composition Scheme 20 Nirdharan Dohra Niyantran 26 8 Ee Ve Bill Rod Permit 30 Pramanik Credit ClosingStock 35 10 Samayik Sawal 43 ANNEXURES I Udaharan 51 Vibhinn Antim Tithi 58

Monday, 3 April 2017

SC highway liquor ban verdict might hit 1 million jobs 15791494

हाईवे पर शराबबंदी से जा सकती है 10 लाख लोगों की नौकरियां, हॉस्पिटेलिटी इंडस्ट्री ने लगाया अनुमान

नई दिल्ली: नेशनल व स्टेट हाईवे के 500 मीटर के दायरे में शराबबंदी के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद करीब 1 मिलियन (10 लाख) लोगों की नौकरियों पर खतरा मंडरा रहा है। सुप्रीम कोर्ट का यह आदेश 1 अप्रैल से ही अमल में आ चुका है। होटल इंडस्ट्री का मानना है कि अदालत के इस फैसले से उसे बड़ा झटका लगेगा।
शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया था कि बीते साल 15 दिसंबर को दिए गए उसके आदेश जिसमें राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों पर शराब पर बैन होटल और रेस्तरां पर भी लागू हो। शराब पीने की वजह से होने वाले सड़क हादसों को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने यह फैसला किया था। सुप्रीम कोर्ट का मानना है कि इससे ऐसे हादसों में कमी आएगी। दरअसल, भारत में सड़क हादसों में दुनिया में सबसे अधिक जानें जाती हैं।
नेशनल रेस्तरां एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एनआरएआई) के अध्यक्ष रियाज अमलानी ने बताया कि इस फैसले से राज्यों को 50 हजार करोड़ रुपए का बड़ा नुकसान हो सकता है। हालांकि, ये शुरुआती अनुमान हैं और हम इसके असर का सटीक अंदाजा लगाने की कोशिश कर रहे हैं। एनआरएआई एक लॉबी ग्रुप है, जो देश भर में रेस्तरां और पब्स का प्रतिनिधित्व करती है।


Highway Par sharabbandi Se Jaa Sakti Hai 10 Lakh Logon Ki Naukariyan, Hospitality industry ne Lagaya Anuman br Naee Delhi National Wa State Ke 500 Meter Dayre Me Supreme Court Adesh Baad Karib 1 Million Naukariyon Khatra Mandra Raha । Ka Yah April Hee Amal Aa Chuka Hotel Manna Adalat Is Faisle Use Bada Jhatka Lagega Shukrwar Ko Faisla Sunaya Tha Beete Sal 15 December Diye Gaye Uske Jisme Rashtriya Aur Rajya Raajmargon Sharab Ban Restaurant Bhi Lagu Ho Pine Wajah Hone Wale Sadak Hadson Dekhte Hue Kiya Isse Aise Kami Ayegi Darasal Bhaarat Duniya Sabse Adhik Jane Jati Hain Asociation Of India NRAI Adhyaksh Riyaaz Amlani Bataya Rajyon 50 Hazar Crore Rupaye Nuksan Sakta Halanki Ye ShuruAati Ham Iske Asar Sateek Andaja Lagane Koshish Kar Rahe Ek Lobby Group Jo Desh Bhar Pubs Pratinidhitva Karti